अग्निपथ स्कीम के तहत सेना बहाली में जाति प्रमाणपत्र की मांग पर तेजस्वी ने उठाए सवाल

पटना,। केंद्र सरकार की अग्निपथ स्कीम के तहत सेना बहाली के आवेदन में अन्य दस्तावेजों के अलावा अभ्यर्थियों से जाति प्रमाण पत्र भी मांगा जा रहा है। इसपर बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भाजपा से सवाल करते हुए मंगलवार को ट्वीट किया है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पूछा है कि जब सेना में आरक्षण है ही नहीं तो जाति प्रमाणपत्र की क्या जरूरत है?
तेजस्वी यादव ने ट्विटर हैंडल पर अग्निवीर से जुड़े फॉर्म की प्रति ट्विट करते हुए लिखा, ‘जात न पूछो साधु की लेकिन जात पूछो फौजी की। संघ की भाजपा सरकार जातिगत जनगणना से दूर भागती है लेकिन देश सेवा के लिए जान देने वाले अग्निवीरों से जाति पूछती है। ये जाति इसलिए पूछ रहे हैं, क्योंकि देश का सबसे बड़ा जातिवादी संगठन आरएसएस बाद में जाति के आधार पर अग्निवीरों की छंटनी करेगा।
उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार की अग्निपथ स्कीम के तहत सेना में बहाली की प्रक्रिया जारी है और इसके आवेदन के लिए जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट जारी कर दी गई है। इन दस्तावेजों में मूल निवासी प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, स्कूल प्रमाण पत्र, चरित्र प्रमाण पत्र सहित अन्य डॉक्युमेंट्स मांगे गए हैं। उपेंद्र कुशवाहा ने ट्वीट में सेना भर्ती के इस आवेदन सूचना को भी शेयर किया है, जिसमें अंकित जाति प्रमाण पत्र और धर्म प्रमाण पत्र के कॉलम को हाईलाइट करते हुए अपनी बात कही है।

Leave Your Comment